Monthly Archives: April 2013

Hindi Poem: नज़रें तो तुम्हारी झुकती हैं!

तुम  खुश  हो  मेरी  आँखों  को  आंसू  दे  कर
दामन  किसी  और  का  थाम  कर
हम  खुश  है  तुम्हारी  असलियत  देख  कर
किये  थे  जो  तुमने  हमसे  वादे  कभी
आज  वो  वादे  किसी  और  से  करता  देख  कर
कैसे  बदलती  है  नियत  लौंडिया  की
जीवन  के  इस  अनुभव  को  देख  कर
पर  जिंदगी  वो  प्रेम  गीत  नहीं
बर्बाद  कर  दी  जाए  तुझ  जैसी  पर
हम  तो  आज  भी  चलते  हैं  उसी  टशन  से
नज़रें  तो  तुम्हारी  झुकती  हैं  हमारी  एक  आहट  पर
शर्मसार  हो  जाती  हो  मेरे  एक  ख्याल  पर!

तुम  खुश  हो  मेरी  आँखों  को  आंसू  दे  कर

दामन  किसी  और  का  थाम  कर

हम  खुश  है  तुम्हारी  असलियत  देख  कर

किये  थे  जो  तुमने  हमसे  वादे  कभी

आज  वो  वादे  किसी  और  से  करता  देख  कर

कैसे  बदलती  है  नियत  लड़की   की

जीवन  के  इस  अनुभव  को  देख  कर

पर  जिंदगी  वो  प्रेम  गीत  नहीं

बर्बाद  कर  दी  जाए  तुझ  जैसी  पर

हम  तो  आज  भी  चलते  हैं  उसी  टशन  से

नज़रें  तो  तुम्हारी  झुकती  हैं  हमारी  एक  आहट  पर

शर्मसार  हो  जाती  हो  मेरे  एक  ख्याल  पर!

Logo_Ris