Category Archives: Independence Day

Hindi Poem: Desh Bech Khayenge!

walmart-tesco-carrefour-indiaभारत  नीलामी  का  इरादा  जबसे  पक्का किया  है
महामौन सिंह  के  मुख  से  अलफ़ाज़  निकलने  लगे  हैं
Walmart Carrefour Tesco के  भारत  प्रवेश  के  लिए  कुछ  भी  कर  जायेंगे
ज़रुरत  पड़ी  तो  भारत  बेच  खायेंगे
हमने  लूटा  तो  बहुत  पर  भूख अभी बाकी है
कोयले  की  खदानों  से  निकला  धन  अभी  नाकाफी  है
अब  तो  reforms के  नाम  पर  चपत  लगायेंगे
विदेशी  कम्पनियों  से  dollar  में  कमाएंगे
जहन्नुम  में  जाए  देश  हम  तो  अमेरिका  का  पकड़  कर  हिलाएंगे
लोग  एक  दो  महीने  सड़क  पर  मोर्चा  निकालेंगे  फिर  adjust हो  जायेंगे
हर  बार  की  तरह  इस  बार  भी  कुछ  नहीं  होगा
यही  सोचकर  सभी  अपने  घर  में  दुबक  कर  रह  जायेंगे
मीडिया  वाले  वाद -विवाद  प्रतियोगिता  करवा  कर  TRP बढ़ाएंगे
लेकिन समाधान नहीं बता पायेंगे
और  इंडिया  की  हालत  को  गाली  देते हुए  चुप-चाप  रह  जायेंगे
पर  अपनी  comfort zone से  बहार  हम  कभी  नहीं  आयेंगे
जिनको  अभी  भी  फर्क  नहीं  पड़ता  वो  क्या  घंटा  देश  बनायेंगे
चलिए  अब  बहुत  वक़्त  ज़ाया  हो  गया  अब  अमेरिका  में  ही  स्वतंत्रता  दिवस  मनाएंगे!!

Logo_Ris

राष्ट्रिय ध्वज!!

A poem written by Harivansh Rai Bachchan. Nanhe thought of sharing this with all of you. Independence Day fervor is gripping country. Lets’ celebrate this day with this poem.

नागाधिराज श्रृंग पर खडी हु‌ई,
समुद्र की तरंग पर अडी हु‌ई,
स्वदेश में जगह-जगह गडी हु‌ई,
अटल ध्वजा हरी,सफेद केसरी!

न साम-दाम के समक्ष यह रुकी,
न द्वन्द-भेद के समक्ष यह झुकी,
सगर्व आस शत्रु-शीश पर ठुकी,
निडर ध्वजा हरी, सफेद केसरी!

चलो उसे सलाम आज सब करें,
चलो उसे प्रणाम आज सब करें,
अजर सदा इसे लिये हुये जियें,
अमर सदा इसे लिये हुये मरें,
अजय ध्वजा हरी, सफेद केसरी!

15th August: Happy Independence Day

Independence Day

Freedom is first of all a responsibility before the God from whom we come.

Indian Independece Day

Freedom is nothing else but a chance to be better.

Independence Day India

In the truest sense, freedom cannot be bestowed; it must be achieved.

Happy Independence

They who would give up an essential liberty for temporary security, deserve neither liberty or security .

Independence Day 15th August

History does not long entrust the care of freedom to the weak or the timid.

15th August

You can only protect your liberties in this world by protecting the other man’s freedom. You can only be free if I am free.

15th August Day

We cannot defend freedom abroad by deserting it at home.

Independence Day 15th August

Those who profess to favor freedom and yet depreciate agitation, are people who want crops without ploughing the ground; they want rain without thunder and lightning; they want the ocean without the roar of its many waters. The struggle may be a moral one, or it may be a physical one, or it may be both. But it must be a struggle. Power concedes nothing without a demand; it never has and it never will.

जिस धज से कोई मक्ताल में गया होगा वो शान सलामत रहती है,
ये जान तो आनी-जानी है, इस जान की कोई बात नहीं!

आजादी के लिए लाखों नौजवान ने लहू दिया,
क्या हमने आज उनको भुला दिया है?
अगर नहीं भुलाया है—-
तो क्या हमारा लहू जम गया है,
आदमी आदमी से अनजान हो गया है!
गरीब और अमीर के बीच दीवार खड़ी है,
अमीर ऐशो आराम में चूर है, गरीब पर विषम घडी है!
इंडिया आगे बढ़ गया पर भारत पीछे छूट गया,
क्या हमारे दिल से भारत प्रेम मिट गया?
३० करोड़ लोग रोटी-कपडे-मकान को मोहताज हैं,
फिर कैसे कहें की हमारे सर पर ताज है!
नहीं मिली स्वाधीनता असमानता, गरीबी और भुखमरी से,
मुहिब-ए-वतन करो संग्राम की तैयारी अपनों से!
आजादी के लिए लाखों नौजवान ने लहू दिया,
वो लहू उन्होंने इंडिया या भारत नहीं हिन्दुस्तान के लिए दिया!
जात-पात, धर्म-छेत्र, स्त्री-पुरुष, गरीब-अमीर का भेद भाव जब मिट जायेगा
तब सही मायने में हिंदुस्तान आज़ाद कहलायेगा!
६१ वर्ष पश्चात अपनी आजादी अधूरी है
जिसे पूर्ण करने की जिम्मेदारी मेरी और तुम्हारी है!!