Hindi Poem: Jabse Tum Jeevan Mein Aa Gayi!

जीवन के २३ बसंत वीराने में गुजरने के बाद
अचानक से आ गयी बहार
जब से तुम मेरे जीवन में आ गयी

दिल में उथल-पुथल मच गयी
हर पल सिर्फ तुम्हारा ख्याल
था एक गज़ब का एहसास
तेरी चाहत रातों कि नींदे चुरा ले गयी
जब से तुम मेरे जीवन में आ गयी
तेरे साथ समय बीतता गया
मैं तेरा दीवाना बनता चला गया
अपनी किस्मत कहूं या रब का करम
कि मेरी तुमसे मुलाक़ात हो गयी
जब से तुम मेरे जीवन में आ गयी
जैसे जैसे सूरज चढ़ता गया
तेरे लिए प्यार और भी गहरा होता गया
शुरूआती पसंद मुहब्बत में तब्दील हो गयी
और ये मुहब्बत मीठा मर्ज़ दे गयी
जब से तुम जीवन में आ गयी
तेरे संग जो सपने संजोये हैं
उसे हकीकत करना है
मेरे जीवन में खुशियों के रंग बरसा गयी
जब से तुम मेरे जीवन में आ गयी!!!

This poem is for especial person on occasion of her birthday on 01-10-12 :)

Logo_Ris

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *